Don't Miss
Home 5 राज्य 5 उत्तर प्रदेश 5 दारुल उलूम अशरफिया मिलाया मदरसे में हजारों की संख्या में लोगों ने किया रोजा इफ्तार। बड़ी-बड़ी हस्तियां रोजा इफ्तार ओर दुआ में हुई शामिल

दारुल उलूम अशरफिया मिलाया मदरसे में हजारों की संख्या में लोगों ने किया रोजा इफ्तार। बड़ी-बड़ी हस्तियां रोजा इफ्तार ओर दुआ में हुई शामिल

भारत देश एक संस्कृति देश है। अनेक जातियों के लोग इस देश में निवास करते चले आ रहे हैं। भारत की सभ्यता पूरे विश्व में प्रसिद्ध है कि, एक भारत ही देश ऐसा है जहां, अनेक जातियों के लोग रहते हैं। सब अपने अपने तरीके से अपने धर्म को मानते हैं। और प्रेम भाव से रहते चले आ रहे हैं। हिंदू,मुस्लिम,सिख,इसाई भारत देश सभी का है। आपको बता दें कि, इस वक्त रमजान का पाक माह चल रहा है। मुस्लिम समुदाय के लोग रोजा रखकर पूरा दिन भर भूखे और प्यासे रहकर अल्लाह की इबादत करते हैं। नमाज पढ़ते और साथ ही कोई भी ऐसा काम नहीं करते जिससे अल्लाह नाराज हो। अल्लाह को राजी करने का रमजान सबसे अव्वल महीना माना जाता है। सुबह लोग शहरी करते हैं। उसके बाद लगभग 15 से 16 घंटे कुछ नहीं खाते ना पीते और शाम को मगरिब की अजान सुनकर रोजा इफ्तार करते हैं। मुस्लिम समुदाय में मान्यता है कि, रोजा इफ्तार के समय अल्लाह बंदे से बेहद खुश होता है और उसी खुशी के कारण बंदे के बहुत करीब आ जाता है। और उस वक्त की मांगी गई दुआ कभी खाली नहीं जाती। रोजदार को रोजा इफ्तार कराना भी बहुत बड़ा सवाब माना जाता है। रमजान के महीने में कई लोग रोजा इफ्तार कराते है। ताकि उन्हें भी सवाब और अल्लाह की रहमत हासिल हो सके। राजधानी लखनऊ गंगा जमुनी तहजीब के लिए शुरू से ही जाना जाता है। राजा महाराजाओं के समय से ही लखनऊ हिंदू मुस्लिम एकता का सौहार्द बना हुआ है। रमजान के महीने में हर साल बहुत से हिंदू लोग रोजा इफ्तार करवाते हैं। बहुत से मुस्लिम रोजा अफ्तार करवाते हैं। उसमें आसपास के अन्य जाति धर्मों के लोगों को भी बुलाते हैं। और प्यार मोहब्बत के साथ रोजा इफ्तार करते हैं। पुराना लखनऊ….  लखनऊ का दिल कहा जाता है। यहां सबसे ज्यादा आबादी रहती है। घनी आबादी पुराने लखनऊ में रहती है। परंतु प्यार मोहब्बत और गंगा जमुनी तहजीब यही आप को सबसे ज्यादा मिलेगी। बता दें की यासीन गंज दारुल उलूम अशरफिया मिनाइया मदरसे की जानिब से हर साल रोजा इफ्तार का आयोजन किया जाता है। जिसमें हजारों की संख्या में लोग आते हैं। रोजा इफ्तार करते हैं। हिंदू मुस्लिम सभी लोग इस रोजा इफ्तार में शामिल होते हैं। आने जाने वाले लोग राहगीरों को खासतौर से रोजा इफ्तार में आने की इजाजत है। और आम लोग जो भी ईफ्तार करना चाहते हैं। आ सकते हैं। इस साल भी 26 रमजान 1 जून को यह कार्यक्रम किया गया। शाही जामा मस्जिद के सदर फुरकान अहमद बरकाती की देखरेख में इस कार्यक्रम को किया गया। आज भी हजारों लोग रोजा इफ्तार में शामिल हुए। क्या हिंदू क्या मुस्लिम सभी लोग ने मिलजुलकर रोजा इफ्तार किया। और अपने मुल्क के लिए दुआ मांगी। देश के जाने-माने मौलाना मिल्लत हजरत अल्लामा सैयद मोहम्मद हाशमी मियां, और मिल्लत हजरत अल्लामा सैयद मोहम्मद जिलानी मियां ने रोजा इफ्तार में शिरकत की लोगों ने तहे दिल से उनका स्वागत किया। पुराने लखनऊ के पूर्व विधायक मोहम्मद रेहान नईम भी रोजा इफ्तार में शिरकत लाए। और सभी के साथ रोजा इफ्तार किया। कार्यक्रम को संचालित करने वाले फुरकान अहमद बरकाती का कहना है कि, हम सब एक ही अल्लाह के बंदे हैं। मानने का तरीका भले अलग हो नाम भी अलग हो सकता है। परंतु है तो हम सब एक ही ना।कोई हिंदू ना कोई मुस्लिम हर साल हजारों लोग यहां रोजा इफ्तार में होते हैं। इस साल भी हजारों लोगों ने रोजा इफ्तार किया। जिसमें हिंदू और मुस्लिम दोनों ही शामिल हैं। और प्यार मोहब्बत से रोजा इफ्तार का कार्यक्रम समापन हुआ है।

x

Check Also

राजधानी लखनऊ के अंतर्गत समुदायिक स्वास्थ केंद्र माल की मदद से बक्खा खेड़ा में स्वास्थ शिविर का आयोजन हुवा।

राजधानी लखनऊ के अंतर्गत समुदायिक स्वास्थ केंद्र माल की मदद से ग्राम बक्खा खेड़ा ग्राम पंचायत नबिपनाह में  दिनांक 30/01/2019 को स्वास्थ शिविर कैंप अयोजन किया गया जिसमे कुल एक सौ एक (101) मरीज देखे गए जिसमे डॉक्टरों ने सभी मरीजों को बहोत अच्छी तरह से देखा और डॉक्टरों ने मरीज को स्वास्थ रहने के लिए यह भी जानकारी दी गई कि अगर आप स्वाक्षता के प्रति जागरूक रहेंगे और दूसरे लोगौ को जागरूक करेंगे तो इस प्रकार की बिमारियों का सामना नही करना पड़ेगा और आप स्वच्छ एवं स्वास्थ रहेंगे इस स्वास्थ शिविर का आयोजन करने में अहम् भूमिका युवा ...

ICICI की जांच में चंदा कोचर दोषी साबित, बैंक से होंगी बर्खास्त – सूद समेत लौटानी पड़ेगी बोनस की रकम

करीब एक हफ्ते पहले ही सीबीआई ने वीडियोकॉन लोन मामले में कई जगहों पर छापा मारते हुए चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर समेत अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया था। नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर को जस्टिस बी एन श्रीकृष्णा समिति ने बैंक के आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी पाया है। ऐसे में कोचर का इस्तीफा उनकी बर्खास्तगी का कारण बन सकती है और बैंक उनके बोनस समेत अन्य लंबित भुगतान पर रोक लगा सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है, ‘चंदा कोचर ने आईसीआईसीआई की आचार संहिता, हितों के टकराव को रोकने वाले ...

कुंभमेला 2019 : 10 फरवरी के बाद अयोध्या कूच व 21 को शिलान्यास का प्रस्ताव पारित

गंगा सेवा अभियानम शिविर में परम धर्म संसद का आयोजन शंकराचार्य स्‍वामी स्‍वरूपानंद सरस्‍वती की मौजूद में हुआ। इसमें अयोध्‍या कूच व राम मंदिर शिलान्‍यास का प्रस्‍ताव पारित हुआ। कुंभ नगर : श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में राम मंदिर के लिए शिलान्यास करने संतों व श्रद्धालुओं का जत्था वसंत पंचमी के बाद रवाना होगा। सभी अयोध्या पहुंचकर फाल्गुन कृष्ण पक्ष की द्वितीया तिथि पर 21 फरवरी को मंदिर के लिए विधि-विधान से शिलान्यास करेंगे। यह निर्णय कुंभनगरी प्रयाग में शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के मार्गदर्शन में चल रही परमधर्म संसद में लिया गया।   जेल जाएंगे, गोली खाने को तैयार : ...

एक महीने में भरे जाएंगे राज्य सूचना आयोग के खाली पद: हाईकोर्ट में सरकार ने दिया जवाब

उत्तर प्रदेश राज्य सूचना आयोग में खाली पड़े सूचना आयुक्तों के पद अगले एक माह में भरे जाएंगे। स्क्रीनिंग कमेटी द्वारा पात्रों के नाम चयनित कर आगे भेज दिया गया है। जिस पर राज्य नियुक्ति समिति बैठक कर अंतिम निर्णय लेगी। ये जानकारी राज्य सरकार के अधिवक्ता ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की जस्टिस देवेन्द्र कुमार अरोरा व जस्टिस नरेंद्र कुमार जोहरी की लखनऊ बेंच को दी। गौरतलब है कि राज्य सूचना आयोग में उत्पन्न हुई रिक्तियों के संबंध में सोशल एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर ने याचिका दायर कर कोर्ट से मामले में निर्देश देने की अपील की थी जिस पर कोर्ट ...