Don't Miss
Home 5 राज्य 5 उत्तर प्रदेश 5 मेट्रो ने एक साल में क्यों गंवा दिए 8 करोड़ से ज्यादा यात्री, सामने आई चौंकाने वाली रिपोर्ट

मेट्रो ने एक साल में क्यों गंवा दिए 8 करोड़ से ज्यादा यात्री, सामने आई चौंकाने वाली रिपोर्ट

Publish Date:Mon, 24 Dec 2018 04:57 PM (IST)
मेट्रो ने एक साल में क्यों गंवा दिए 8 करोड़ से ज्यादा यात्री, सामने आई चौंकाने वाली रिपोर्ट
डीएमआरसी (दिल्ली मेट्रो रेल निगम) की वार्षिक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि किराया बढ़ाने के बाद साल भर में मेट्रो में 8,18,21,000 यात्री कम हो गए, लेकिन कमाई बढ़ गई।

नई दिल्ली (रणविजय सिंह]। मेट्रो किराये में भारी भरकम बढ़ोत्तरी की मार यात्रियों की जेब पर पड़ी है। इस वजह से मेट्रो में यात्रियों की संख्या पहले के मुकाबले कम हो गई, लेकिन कमाई के मामले में दिल्ली मेट्रो मालामाल हुई है। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) की वार्षिक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि किराया बढ़ाने के बाद साल भर में मेट्रो में 8,18,21,000 यात्री कम हो गए। फिर भी मेट्रो की तिजोरी में राजस्व की कमी नहीं हुई, बल्कि परिचालन से कमाई में 38.93 फीसद की भारी भरकम बढ़ोत्तरी करते हुए अपना घाटा कम करने में काफी हद तक सफल हुई।

रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2017-18 में दिल्ली मेट्रो को 6,211.05 करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ। इसमें यात्री किराया के अलावा रियल ई-स्टेट, कंसल्टेंसी व बाहरी परियोजनाओं से प्राप्त राजस्व शामिल है। इस राजस्व में डीएमआरसी का कुल 4,375.34 करोड़ खर्च काटने के बाद मेट्रो 1835.71 करोड़ रुपये फायदे में रही।

यह अलग बात है कि मेट्रो परियोजनाओं के लिए जापान की एजेंसी से लिए गए लोन व अन्य सभी तरह की देनदारी भरने के बाद कुल 93.14 करोड़ का घाटा हुआ। इसके पिछले वित्त वर्ष में मेट्रो 248 करोड़ रुपये के घाटे में थी। इसकी भरपाई करने के लिए ही किराये में 100 फीसद तक की बढ़ोत्तरी की गई थी।

परिचालन से 848.26 करोड़ की अधिक कमाई

डीएमआरसी की रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2017-18 में मेट्रो को परिचालन से 3027.26 करोड़ रुपये की आमदनी हुई। इसके पिछले वित्त वर्ष में परिचालन से 2179 करोड़ रुपये की कमाई हुई थी। इस तरह मेट्रो परिचालन से डीएमआरसी को 848.26 करोड़ की अधिक आमदनी हुई, जबकि इससे पहले किराया कम होने के बावजूद परिचालन से राजस्व में हर साल छह से 11 फीसद तक की बढ़ोत्तरी होती थी। इसका बड़ा कारण मेट्रो में हर साल यात्रियों की संख्या बढ़ना था

Publish Date:Mon, 24 Dec 2018 04:57 PM (IST)
मेट्रो ने एक साल में क्यों गंवा दिए 8 करोड़ से ज्यादा यात्री, सामने आई चौंकाने वाली रिपोर्ट
डीएमआरसी (दिल्ली मेट्रो रेल निगम) की वार्षिक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि किराया बढ़ाने के बाद साल भर में मेट्रो में 8,18,21,000 यात्री कम हो गए, लेकिन कमाई बढ़ गई।

नई दिल्ली (रणविजय सिंह]। मेट्रो किराये में भारी भरकम बढ़ोत्तरी की मार यात्रियों की जेब पर पड़ी है। इस वजह से मेट्रो में यात्रियों की संख्या पहले के मुकाबले कम हो गई, लेकिन कमाई के मामले में दिल्ली मेट्रो मालामाल हुई है। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) की वार्षिक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि किराया बढ़ाने के बाद साल भर में मेट्रो में 8,18,21,000 यात्री कम हो गए। फिर भी मेट्रो की तिजोरी में राजस्व की कमी नहीं हुई, बल्कि परिचालन से कमाई में 38.93 फीसद की भारी भरकम बढ़ोत्तरी करते हुए अपना घाटा कम करने में काफी हद तक सफल हुई।

रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2017-18 में दिल्ली मेट्रो को 6,211.05 करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ। इसमें यात्री किराया के अलावा रियल ई-स्टेट, कंसल्टेंसी व बाहरी परियोजनाओं से प्राप्त राजस्व शामिल है। इस राजस्व में डीएमआरसी का कुल 4,375.34 करोड़ खर्च काटने के बाद मेट्रो 1835.71 करोड़ रुपये फायदे में रही।

यह अलग बात है कि मेट्रो परियोजनाओं के लिए जापान की एजेंसी से लिए गए लोन व अन्य सभी तरह की देनदारी भरने के बाद कुल 93.14 करोड़ का घाटा हुआ। इसके पिछले वित्त वर्ष में मेट्रो 248 करोड़ रुपये के घाटे में थी। इसकी भरपाई करने के लिए ही किराये में 100 फीसद तक की बढ़ोत्तरी की गई थी।

परिचालन से 848.26 करोड़ की अधिक कमाई

डीएमआरसी की रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2017-18 में मेट्रो को परिचालन से 3027.26 करोड़ रुपये की आमदनी हुई। इसके पिछले वित्त वर्ष में परिचालन से 2179 करोड़ रुपये की कमाई हुई थी। इस तरह मेट्रो परिचालन से डीएमआरसी को 848.26 करोड़ की अधिक आमदनी हुई, जबकि इससे पहले किराया कम होने के बावजूद परिचालन से राजस्व में हर साल छह से 11 फीसद तक की बढ़ोत्तरी होती थी। इसका बड़ा कारण मेट्रो में हर साल यात्रियों की संख्या बढ़ना था।

दूसरे स्रोतों से नहीं बढ़ पाई आमदनी

केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय डीएमआरसी को निर्देश दे चुका है कि मेट्रो राजस्व बढ़ाने के अन्य विकल्प तलाशे। इसके बावजूद अन्य स्रोतों से राजस्व में बढ़ोत्तरी नहीं हो पाई है, बल्कि कंसल्टेंसी शुल्क व बाहरी परियोजनाओं से कमाई कम ही हुई। बाहरी परियोजनाओं से 2331.02 करोड़ रुपये का राजस्व मिला जो पिछले वित्त वर्ष से 124.98 करोड़ रुपये कम है। यदि मेट्रो में यात्रियों की संख्या कम न हुई होती और बाहरी परियोजनाओं से राजस्व नहीं घटता तो 93.14 करोड़ रुपये के घाटे की भी भरपाई कर मेट्रो मुनाफे की पटरी पर रफ्तार भर रही होती।

तीन साल में सबसे कम यात्री

वर्ष 2017-18 में मेट्रो में कुल 9260.69 लाख यात्रियों ने सफर किया। यह तीन साल में सबसे कम आंकड़ा है। गत वर्ष मेट्रो में 10,078.90 लाख लोगों ने सफर किया था।

x

Check Also

ICICI की जांच में चंदा कोचर दोषी साबित, बैंक से होंगी बर्खास्त – सूद समेत लौटानी पड़ेगी बोनस की रकम

करीब एक हफ्ते पहले ही सीबीआई ने वीडियोकॉन लोन मामले में कई जगहों पर छापा मारते हुए चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर समेत अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया था। नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर को जस्टिस बी एन श्रीकृष्णा समिति ने बैंक के आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी पाया है। ऐसे में कोचर का इस्तीफा उनकी बर्खास्तगी का कारण बन सकती है और बैंक उनके बोनस समेत अन्य लंबित भुगतान पर रोक लगा सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है, ‘चंदा कोचर ने आईसीआईसीआई की आचार संहिता, हितों के टकराव को रोकने वाले ...

सूरत में बोले प्रधानमंत्री मोदीः नोटबंदी नहीं की होती तो लोगों को सस्ता घर कैसे मिलता ?

आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 71वीं पुण्यतिथि है। मोदी सरकार ने इस मौके पर बड़े आयोजन की तैयारी की है। खुद पीएम मोदी आज गुजरात के नवसारी जिले में मौजूद दांडी जा रहे हैं जहां गां नई दिल्ली, जेएनएन।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो हफ्तों में दूसरी बार गुजरात दौरे पर हैं। यहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी पर सवाल उठाने वालों को जवाब दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कुछ लोग सवाल पूछते हैं कि नोटबंदी से क्या फायदा हुआ? उन्हें ये सवाल उन युवाओं से भी पूछना चाहिए जिन्हें नोटबंदी के बाद कम ...

कुंभमेला 2019 : 10 फरवरी के बाद अयोध्या कूच व 21 को शिलान्यास का प्रस्ताव पारित

गंगा सेवा अभियानम शिविर में परम धर्म संसद का आयोजन शंकराचार्य स्‍वामी स्‍वरूपानंद सरस्‍वती की मौजूद में हुआ। इसमें अयोध्‍या कूच व राम मंदिर शिलान्‍यास का प्रस्‍ताव पारित हुआ। कुंभ नगर : श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में राम मंदिर के लिए शिलान्यास करने संतों व श्रद्धालुओं का जत्था वसंत पंचमी के बाद रवाना होगा। सभी अयोध्या पहुंचकर फाल्गुन कृष्ण पक्ष की द्वितीया तिथि पर 21 फरवरी को मंदिर के लिए विधि-विधान से शिलान्यास करेंगे। यह निर्णय कुंभनगरी प्रयाग में शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के मार्गदर्शन में चल रही परमधर्म संसद में लिया गया।   जेल जाएंगे, गोली खाने को तैयार : ...

एक महीने में भरे जाएंगे राज्य सूचना आयोग के खाली पद: हाईकोर्ट में सरकार ने दिया जवाब

उत्तर प्रदेश राज्य सूचना आयोग में खाली पड़े सूचना आयुक्तों के पद अगले एक माह में भरे जाएंगे। स्क्रीनिंग कमेटी द्वारा पात्रों के नाम चयनित कर आगे भेज दिया गया है। जिस पर राज्य नियुक्ति समिति बैठक कर अंतिम निर्णय लेगी। ये जानकारी राज्य सरकार के अधिवक्ता ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की जस्टिस देवेन्द्र कुमार अरोरा व जस्टिस नरेंद्र कुमार जोहरी की लखनऊ बेंच को दी। गौरतलब है कि राज्य सूचना आयोग में उत्पन्न हुई रिक्तियों के संबंध में सोशल एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर ने याचिका दायर कर कोर्ट से मामले में निर्देश देने की अपील की थी जिस पर कोर्ट ...