Don't Miss
Home 5 देश 5 सूरत में बोले प्रधानमंत्री मोदीः नोटबंदी नहीं की होती तो लोगों को सस्ता घर कैसे मिलता ?

सूरत में बोले प्रधानमंत्री मोदीः नोटबंदी नहीं की होती तो लोगों को सस्ता घर कैसे मिलता ?

आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 71वीं पुण्यतिथि है। मोदी सरकार ने इस मौके पर बड़े आयोजन की तैयारी की है। खुद पीएम मोदी आज गुजरात के नवसारी जिले में मौजूद दांडी जा रहे हैं जहां गां

नई दिल्ली, जेएनएन।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो हफ्तों में दूसरी बार गुजरात दौरे पर हैं। यहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी पर सवाल उठाने वालों को जवाब दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कुछ लोग सवाल पूछते हैं कि नोटबंदी से क्या फायदा हुआ? उन्हें ये सवाल उन युवाओं से भी पूछना चाहिए जिन्हें नोटबंदी के बाद कम हुई घरों की कीमतों का लाभ मिलना शुरू हुआ है। उस गरीब और मध्यम वर्ग से ये सवाल पूछना चाहिए, जिसका घर का सपना अब साकार होना संभव हुआ है।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को सूरत एयरपोर्ट के एक्टेंशन टर्मिनल की भी नींव रखीं। यहां उन्होंने एक जनसभा को संबोधित किया। इसके बाद पीएम मोदी अब महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर गुजरात में राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह मैमोरियल का उद्घाटन करने जाएंगे।

बता दें कि आजादी के आंदोलन में महात्मा गांधी के नमक सत्याग्रह मार्च को दांडी मार्च के नाम से भी जाना जाता है। अंग्रेजों के खिलाफ छेड़े गए सविनय अवज्ञा आंदोलन के तहत गांधी जी के नेतृत्व में 80 सत्याग्रहियों ने साबरमती आश्रम से अहमदाबाद स्थित तटीय गांव दांडी की 241 मील की यात्रा और वहां समुद्र के पानी से नमक बनाकर अंग्रेजों के बनाए नमक कानून को चुनौती दी थी। 

मोदी ने की पूर्ण बहुमत की सरकार बनवाने की अपील
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सूरत में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘हमारी सरकार ने रेरा कानून बनाकर अब ये भी सुनिश्चित किया है कि गरीब और मध्यम वर्ग के लोगों की कमाई हाउसिंग प्रोजेक्ट्स में फंसे नहीं। रेरा कानून के तहत 30-35 हजार बिल्डरों ने अपना रजिस्ट्रेशन कराया है और तय नियम के मुताबिक लाखों घरों का निर्माण कर रहे हैं।’

मोदी ने कहा कि ये आपके एक वोट की ताक़त है कि जो गरीब को आज घर मिल रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पिछले चार साढ़े-चार साल से हम इसलिए आगे बढ़ पा रहे हैं क्योंकि पूर्ण बहुमत की सरकार बनवाई। पूर्ण बहुमत की सरकार बड़े और कड़े फैसले ले सकती है। 

x

Check Also

सीबीआई चीफ बने रहेंगे आलोक वर्मा, बड़े फैसले लेने पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

सीबीआई विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया सीबीआई विवाद मामले में आज सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया। फैसले से जहां केंद्र सरकार को झटका लगा है वहीं जांच एजेंसी के निदेशक वर्मा को भी पूरी तरह से राहत नहीं मिली है। सीबीआई निदेशक ने सरकार द्वारा उन्हें छुट्टी पर भेजे जाने को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। आज इस मामले में उन्हें 75 दिन बाद राहत मिली है। अदालत ने सरकार के 23 अक्तूबर को दिए आदेश को निरस्त कर दिया है लेकिन यह भी कहा है कि सीवीसी जांच पूरी होने तक वर्मा कोई बड़ा निर्णय ...

Christmas day 2018: जानिए क्या है क्रिसमस ट्री और सीक्रेट सांता क्लॉज की कहानी

क्रिसमस को पूरी दुनिया में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इसे बड़ा दिन के भी नाम से जाना जाता है। नई दिल्ली, जेएनएन। क्रिसमस डे ईसाई धर्म के लोगों का प्रमुख पर्व है। यह पर्व विश्व में फैले ईसा मसीह के करोड़ों अनुयायियों के लिए पवित्रता का संदेश लाता है। इन दिनों हर जगह क्रिसमस डे की रौनक है। क्रिसमस को पूरी दुनिया में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इसे ‘बड़ा दिन’ के भी नाम से जाना जाता है। क्रिसमस का पर्व प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को मनाया जाता है। कहा जाता है कि इस दिन प्रभु ...

नए साल पर गाड़ी खरीदना नहीं होगा महंगा, दिल्ली सरकार ने लिया बड़ा फैसला

नया प्रस्ताव लागू हो जाता तो जहां प्राइवेट गाड़ी खरीदने के दौरान वन टाइम पार्किंग चार्ज 4000 रुपये देना होता था, वह परिवहन विभाग द्वारा जारी आदेश में 75000 रुपये तक देना पड़ता। नई दिल्ली, जेएनएन। अब दिल्ली-एनसीआर के लाखों लोगों को एक जनवरी, 2019 से बड़ा झटका नहीं लगने वाला है। दरअसल, नए साल से दिल्ली में गाड़ी लेना तकरीबन 18 गुना तक महंगा होने वाला था, क्योंकि पार्किंग शुल्क में 18 गुना तक इजाफा किया गया था। अब दिल्ली सरकार ने इसमें दखल दिया है और इस फैसले को वापस ले लिया गया है। इसकी जानकारी खुद दिल्ली के ...

मेट्रो ने एक साल में क्यों गंवा दिए 8 करोड़ से ज्यादा यात्री, सामने आई चौंकाने वाली रिपोर्ट

Publish Date:Mon, 24 Dec 2018 04:57 PM (IST) डीएमआरसी (दिल्ली मेट्रो रेल निगम) की वार्षिक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि किराया बढ़ाने के बाद साल भर में मेट्रो में 8,18,21,000 यात्री कम हो गए, लेकिन कमाई बढ़ गई। नई दिल्ली (रणविजय सिंह]। मेट्रो किराये में भारी भरकम बढ़ोत्तरी की मार यात्रियों की जेब पर पड़ी है। इस वजह से मेट्रो में यात्रियों की संख्या पहले के मुकाबले कम हो गई, लेकिन कमाई के मामले में दिल्ली मेट्रो मालामाल हुई है। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) की वार्षिक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि किराया बढ़ाने ...