Don't Miss
Home 5 अंतर्राष्ट्रीय 5 Christmas day 2018: जानिए क्या है क्रिसमस ट्री और सीक्रेट सांता क्लॉज की कहानी

Christmas day 2018: जानिए क्या है क्रिसमस ट्री और सीक्रेट सांता क्लॉज की कहानी

क्रिसमस को पूरी दुनिया में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इसे बड़ा दिन के भी नाम से जाना जाता है।

नई दिल्ली, जेएनएन। क्रिसमस डे ईसाई धर्म के लोगों का प्रमुख पर्व है। यह पर्व विश्व में फैले ईसा मसीह के करोड़ों अनुयायियों के लिए पवित्रता का संदेश लाता है। इन दिनों हर जगह क्रिसमस डे की रौनक है। क्रिसमस को पूरी दुनिया में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इसे ‘बड़ा दिन’ के भी नाम से जाना जाता है। क्रिसमस का पर्व प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को मनाया जाता है। कहा जाता है कि इस दिन प्रभु ईसा मसीह का जन्म हुआ था। भगवान यीशु मसीह के जन्मदिन को लेकर इस समय देश में तैयारी तेज है। क्रिश्चियन समुदाय की ओर से इस त्योहार को लेकर अभी से समारोह आयोजित करने का सिलसिला शुरू हो गया है।

Publish Date:Mon, 24 Dec 2018 02:34 PM (IST)
Christmas day 2018: जानिए क्या है क्रिसमस ट्री और सीक्रेट सांता क्लॉज की कहानी
क्रिसमस को पूरी दुनिया में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इसे बड़ा दिन के भी नाम से जाना जाता है।

नई दिल्ली, जेएनएन। क्रिसमस डे ईसाई धर्म के लोगों का प्रमुख पर्व है। यह पर्व विश्व में फैले ईसा मसीह के करोड़ों अनुयायियों के लिए पवित्रता का संदेश लाता है। इन दिनों हर जगह क्रिसमस डे की रौनक है। क्रिसमस को पूरी दुनिया में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इसे ‘बड़ा दिन’ के भी नाम से जाना जाता है। क्रिसमस का पर्व प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को मनाया जाता है। कहा जाता है कि इस दिन प्रभु ईसा मसीह का जन्म हुआ था। भगवान यीशु मसीह के जन्मदिन को लेकर इस समय देश में तैयारी तेज है। क्रिश्चियन समुदाय की ओर से इस त्योहार को लेकर अभी से समारोह आयोजित करने का सिलसिला शुरू हो गया है।

बाजार में भी क्रिसमस को लेकर खासा उत्साह देखने को मिल रहा है। बाजारों में सांता क्लॉज ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए टहल रहे हैं। क्रिसमस के दिन लोग एक-दूसरे मिलते हैं, पार्टी करते हैं, घूमते हैं और चर्च में प्रेयर करते हैं। घर पर विशेष तौर पर केक बनाए जाते हैं और खिलाए जाते हैं। बच्चे इस पर्व का बेसब्री से इंतजार करते हैं। क्रिसमस की एक रात पहले बच्चे घरों में मोजे लटकाते हैं, उन्हें लगता है कि रात में सांता क्लॉज आएगा और उन मोजों में उनके लिए गिफ्ट रख कर जाएगा। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इस सीक्रेट सांता की क्या कहानी है या फिर क्यों क्रिसमस के दिन ‘क्रिसमस ट्री’ को लाया और सजाया जाता है। आज हम आपको क्रिसमस से जुड़े कुछ ऐसे ही सीक्रेट्स के बारे में बताने जा रहे हैं।

Publish Date:Mon, 24 Dec 2018 02:34 PM (IST)
Christmas day 2018: जानिए क्या है क्रिसमस ट्री और सीक्रेट सांता क्लॉज की कहानी
क्रिसमस को पूरी दुनिया में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इसे बड़ा दिन के भी नाम से जाना जाता है।

नई दिल्ली, जेएनएन। क्रिसमस डे ईसाई धर्म के लोगों का प्रमुख पर्व है। यह पर्व विश्व में फैले ईसा मसीह के करोड़ों अनुयायियों के लिए पवित्रता का संदेश लाता है। इन दिनों हर जगह क्रिसमस डे की रौनक है। क्रिसमस को पूरी दुनिया में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इसे ‘बड़ा दिन’ के भी नाम से जाना जाता है। क्रिसमस का पर्व प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को मनाया जाता है। कहा जाता है कि इस दिन प्रभु ईसा मसीह का जन्म हुआ था। भगवान यीशु मसीह के जन्मदिन को लेकर इस समय देश में तैयारी तेज है। क्रिश्चियन समुदाय की ओर से इस त्योहार को लेकर अभी से समारोह आयोजित करने का सिलसिला शुरू हो गया है।

बाजार में भी क्रिसमस को लेकर खासा उत्साह देखने को मिल रहा है। बाजारों में सांता क्लॉज ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए टहल रहे हैं। क्रिसमस के दिन लोग एक-दूसरे मिलते हैं, पार्टी करते हैं, घूमते हैं और चर्च में प्रेयर करते हैं। घर पर विशेष तौर पर केक बनाए जाते हैं और खिलाए जाते हैं। बच्चे इस पर्व का बेसब्री से इंतजार करते हैं। क्रिसमस की एक रात पहले बच्चे घरों में मोजे लटकाते हैं, उन्हें लगता है कि रात में सांता क्लॉज आएगा और उन मोजों में उनके लिए गिफ्ट रख कर जाएगा। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इस सीक्रेट सांता की क्या कहानी है या फिर क्यों क्रिसमस के दिन ‘क्रिसमस ट्री’ को लाया और सजाया जाता है। आज हम आपको क्रिसमस से जुड़े कुछ ऐसे ही सीक्रेट्स के बारे में बताने जा रहे हैं।

25 दिसंबर को ही क्यों मनाया जाता है क्रिसमस डे

सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि 25 दिसंबर को ही क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है। क्या आपको पता है कि इस तारीख को लेकर कई बार विवाद हो चुके हैं। बाइबल में जीसस के जन्म की कोई तारीख नहीं दी गई है। लेकिन फिर भी पूरे विश्व में 25 दिसंबर को ही क्रिसमस डे मनाया जाता है। दरअसल रोमन के पहले ईसाई सम्राट के समय में 25 दिसंबर को क्रिसमस डे मनाया गया था। इसके कुछ सालों बाद पोप जुलियन ने आधिकारिक तौर पर 25 दिसंबर को क्रिसमस डे मनाने का एलान किया, तभी से हर साल 25 दिसंबर को क्रिसमिस डे मनाया जाने लगा।

x

Check Also

सीबीआई चीफ बने रहेंगे आलोक वर्मा, बड़े फैसले लेने पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

सीबीआई विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया सीबीआई विवाद मामले में आज सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया। फैसले से जहां केंद्र सरकार को झटका लगा है वहीं जांच एजेंसी के निदेशक वर्मा को भी पूरी तरह से राहत नहीं मिली है। सीबीआई निदेशक ने सरकार द्वारा उन्हें छुट्टी पर भेजे जाने को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। आज इस मामले में उन्हें 75 दिन बाद राहत मिली है। अदालत ने सरकार के 23 अक्तूबर को दिए आदेश को निरस्त कर दिया है लेकिन यह भी कहा है कि सीवीसी जांच पूरी होने तक वर्मा कोई बड़ा निर्णय ...

अयोध्या मामले पर चार जनवरी को होगी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट की यह तीन सदस्यीय पीठ इसी मामले में 2010 में आए इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली 14 याचिकाओं पर सुनवाई करेगी। नई दिल्ली, प्रेट्र। सुप्रीम कोर्ट अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद के मालिकाना हक से जुड़े मामले में चार जनवरी को सुनवाई करेगा। सुनवाई प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और जस्टिस एसके कौल की पीठ करेगी। माना जा रहा है कि इसी दिन पीठ इस मामले में आगे की सुनवाई के लिए तीन सदस्यीय पीठ के गठन का फैसला करेगी।सुप्रीम कोर्ट की यह तीन सदस्यीय पीठ इसी मामले में 2010 में आए इलाहाबाद हाई कोर्ट ...

इंडोनेशिया में सुनामी का खतरा अभी टला नहीं, राष्ट्रीय आपदा एजेंसी ने जारी किया अलर्ट

Publish Date:Mon, 24 Dec 2018 03:29 PM (IST) रिंग ऑफ फायर में स्थित होने के कारण इंडोनेशिया में दुनिया में सबसे अधिक भूकंप और सुनामी आते हैं। इसी साल जुलाई में इंडोनेशिया में एक हफ्ते के अंतराल में दो भूकंप के झटके आए थे। कैरिटा, एजेंसी। इंडोनेशिया में ज्वालामुखी फटने के कारण आई सुनामी से 281 लोगों की मौत हो गई और सैकड़ों अन्य घायल हैं, लेकिन खतरा अभी टला नहीं है। मौसम विभाग ने फिर सुनामी आने का अलर्ट जारी किया है। अनाक क्रेकाटोआ ज्वालमुखी की सक्रियता को देखते हुए तटीय इलाकों में रहने वाले लोगों को समुद्र तटों ...

अयोध्या विवाद पर सुनवाई टली, सुप्रीम कोर्ट जनवरी तक तय करेगा नई तारीख

अयोध्या की राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि को तीन भागों में बांटने वाले 2010 के इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सोमवार को एक बार फिर से सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टल गई। अब इस मामले में अगले साल जनवरी तक नई तारीखों का फैसला किया जा सकता है। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति संजय किशन कौल एवं न्यायमूर्ति के एम जोसफ की पीठ इस मामले में दायर अपीलों पर सुनवाई की। शीर्ष अदालत ने 27 सितंबर को 1994 के अपने उस फैसले पर पुनर्विचार के मुद्दे को पांच न्यायाधीशों वाली संविधान पीठ को सौंपने से इंकार ...