Don't Miss
Home 5 अंतर्राष्ट्रीय 5 अयोध्या मामले पर चार जनवरी को होगी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

अयोध्या मामले पर चार जनवरी को होगी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट की यह तीन सदस्यीय पीठ इसी मामले में 2010 में आए इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली 14 याचिकाओं पर सुनवाई करेगी।

नई दिल्ली, प्रेट्र। सुप्रीम कोर्ट अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद के मालिकाना हक से जुड़े मामले में चार जनवरी को सुनवाई करेगा। सुनवाई प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और जस्टिस एसके कौल की पीठ करेगी। माना जा रहा है कि इसी दिन पीठ इस मामले में आगे की सुनवाई के लिए तीन सदस्यीय पीठ के गठन का फैसला करेगी।सुप्रीम कोर्ट की यह तीन सदस्यीय पीठ इसी मामले में 2010 में आए इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली 14 याचिकाओं पर सुनवाई करेगी।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने फैसले में 2.77 एकड़ की भूमि को तीन पक्षकारों सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला के बीच बांटने का आदेश सुनाया था। सुप्रीम कोर्ट ने 29 अक्टूबर, 2018 को मामले की सुनवाई जनवरी, 2019 के पहले हफ्ते में तय की थी।

Publish Date:Mon, 24 Dec 2018 10:35 PM (IST)
अयोध्या मामले पर चार जनवरी को होगी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई
सुप्रीम कोर्ट की यह तीन सदस्यीय पीठ इसी मामले में 2010 में आए इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली 14 याचिकाओं पर सुनवाई करेगी।

नई दिल्ली, प्रेट्र। सुप्रीम कोर्ट अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद के मालिकाना हक से जुड़े मामले में चार जनवरी को सुनवाई करेगा। सुनवाई प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और जस्टिस एसके कौल की पीठ करेगी। माना जा रहा है कि इसी दिन पीठ इस मामले में आगे की सुनवाई के लिए तीन सदस्यीय पीठ के गठन का फैसला करेगी।सुप्रीम कोर्ट की यह तीन सदस्यीय पीठ इसी मामले में 2010 में आए इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली 14 याचिकाओं पर सुनवाई करेगी।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने फैसले में 2.77 एकड़ की भूमि को तीन पक्षकारों सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला के बीच बांटने का आदेश सुनाया था। सुप्रीम कोर्ट ने 29 अक्टूबर, 2018 को मामले की सुनवाई जनवरी, 2019 के पहले हफ्ते में तय की थी।

बाद में एक याचिका में मामले की तत्काल सुनवाई की भी अपील की गई थी। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने याचिका को खारिज करते हुए कहा था कि सुनवाई के लिए 29 अक्टूबर को आदेश जारी किया जा चुका है। तत्काल सुनवाई की याचिका अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने दी थी।

Publish Date:Mon, 24 Dec 2018 10:35 PM (IST)
अयोध्या मामले पर चार जनवरी को होगी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई
सुप्रीम कोर्ट की यह तीन सदस्यीय पीठ इसी मामले में 2010 में आए इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली 14 याचिकाओं पर सुनवाई करेगी।

नई दिल्ली, प्रेट्र। सुप्रीम कोर्ट अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद के मालिकाना हक से जुड़े मामले में चार जनवरी को सुनवाई करेगा। सुनवाई प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और जस्टिस एसके कौल की पीठ करेगी। माना जा रहा है कि इसी दिन पीठ इस मामले में आगे की सुनवाई के लिए तीन सदस्यीय पीठ के गठन का फैसला करेगी।सुप्रीम कोर्ट की यह तीन सदस्यीय पीठ इसी मामले में 2010 में आए इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली 14 याचिकाओं पर सुनवाई करेगी।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने फैसले में 2.77 एकड़ की भूमि को तीन पक्षकारों सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला के बीच बांटने का आदेश सुनाया था। सुप्रीम कोर्ट ने 29 अक्टूबर, 2018 को मामले की सुनवाई जनवरी, 2019 के पहले हफ्ते में तय की थी।

बाद में एक याचिका में मामले की तत्काल सुनवाई की भी अपील की गई थी। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने याचिका को खारिज करते हुए कहा था कि सुनवाई के लिए 29 अक्टूबर को आदेश जारी किया जा चुका है। तत्काल सुनवाई की याचिका अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने दी थी।

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट की तीन सदस्यीय पीठ ने 27 सितंबर, 2018 को 2:1 से दिए फैसले में 1994 के अपने फैसले पर विचार के लिए पांच सदस्यीय पीठ के गठन से इन्कार कर दिया था। 1994 के फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि मस्जिद इस्लाम का अनिवार्य अंग नहीं है। अयोध्या मामले में सुनवाई के दौरान यह मसला उठा था।

‘रोजाना हो राम मंदिर पर सुनवाई’
केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी इस मसले पर रोजाना सुनवाई की मांग की है। उन्होंने सोमवार को कहा, ‘सरकार चाहती है कि इस मसले पर अदालत रोजाना सुनवाई करे, जिससे जल्द इस मसले का समाधान निकल सके।’

x

Check Also

छुट्टी पर भेजे गए CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा के घर के बाहर से हिरासत में 4 संदिग्ध

सीबीआई चीफ आलोक वर्मा के आवास के बाहर से गुरूवार की सुबह उनके पर्सनल सिक्योरिटी ऑफिसर्स (पीएसओ) ने चार संदिग्ध लोगों को वहां पर घूमते हुए हिरासत में लिया है। हिरासत में लिए गए लोगों ने अपनी पहचान इंटेलिजेंस ब्यूरो के अधिकारी के तौर पर दी है, जिनका नाम है- प्रशांत कुमार, विनीत कुमार गुप्ता, अजय कुमार और धीरज कुमार सिंह। उन सभी ने अपनी पहचान के तौर पर सीजीएचएस और आधार कार्ड दिए हैं। एक अधिकारी ने अपनी पहचान उजागर न करने की शर्त पर बताया- “संदिग्ध के पास से जो पहचान सबूत के तौर पर दी गई है उससे यह साफ ...

जब प्रेस कॉन्फ्रें स के बिल पर लड पडे वरिष्ठ नेता

मध्‍यप्रदेश में सत्‍ता विरोधी लहर अच्‍छी-खासी है. लोग भाजपा से गुस्साए हैं और कांग्र्रेस को वोट देना चाहते हैं, लेकिन कांग्रेस इसके लिए तैयार ही नहीं है. आलम ये है कि यहां नेता ही आपस में भिड़े हुए हैं. इससे जुड़े कुछ मजेदार किस्से प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में और इसके बाहर सुनने को मिलते हैं. ऐसा ही किस्‍सा है वरिष्‍ठ कांग्रेसी नेता कमलनाथ और कांग्रेस के युवा लोकप्रिय चेहरे ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया का. प्रदेश कांग्रेसके संगठन की बागडोर संभालने के बाद कमलनाथ ने एक प्रेस कांफ्रेंस की, जिसका बिल साढ़े छह लाख रुपए आया और इसका भुगतान पार्टी फंड से किया ...

तो क्या भगवानों के बीच होगा अगला लोकसभा चुनाव

जिस तेजी से सारी पार्टियां मंदिरों – मस्जिदों की शरण में पहुंच रही हैं, उसे देखकर तो ऐसा लग रहा है कि अगला लोकसभा चुनाव भगवानों के बीच होगा. केन्द्र में और देश के सबसे ज्यादा राज्यों में जिस पार्टी की सत्ता है, वह भारतीय जनता पार्टी पिछले 25 साल से राम के भरोसे चल रही है. राम की मार्केटिंग कर उन्होंने मतदाताओं का इतना विश्वास प्राप्त किया कि पूरा देश भगवा हो गया. वहीं भारतीय जनता पार्टी की सफलता को देखते हुए देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस भी अब सॉफ्ट हिन्दुत्व की तरफ मुड़ रही है. कांग्रेस के ...

तो बिहार में मिल सकती है कांग्रेस को 10 सीटें!

बिहार में भले महागठबन्धन बन तो गया है लेकिन अब तक सीटों को ले कर कोई फैसला नहीं हुआ है. दूसरी तरफ रालोसपा के भे ऐस महागठबन्धन में शामिल होने को ले कर संशय की स्थिति बनी हुई है. ऐसे में सबसे बडा सवाल है कि कांग्रेस के खाते में लोकसभा की कितनी सीटें आएंगी. हालांकि लालू प्रसाद के साथ कांग्रेस का रिश्ता काफी पुराना है, पर महागठबंधन में वह दूसरे नम्बर की पार्टी ही है. अर्थात राजद जो चाहेगा, वही होगा. यह कांग्रेस के सभी नेता समझते हैं, वे राहुल गांधी हों या शक्ति सिंह गोहिल. इसीलिए बिहार कांग्रेस ...