Home 5 पॉलिटिक्स 5 EXCLUSIVE: पासवान बोले- मैं गुडलर्क चार्म, 2019 में फिर बनेगी मोदी सरकार

EXCLUSIVE: पासवान बोले- मैं गुडलर्क चार्म, 2019 में फिर बनेगी मोदी सरकार

चिराग के संसदीय क्षेत्र में भी लोग नोट बदलने के लिए लाइन लगा रहे थे तो उसने कुछ जानकारी मांगी थी। वह दौर खत्म हो चुका है।

लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) अध्यक्ष और केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान को विपक्षी नेता मौसम वैज्ञानिक कहते हैं जो माहौल को पहचान कर निर्णय लेते हैं। खुद पासवान का दावा है कि वह गुडलक चार्म हैं, जिसके साथ होते हैं बाजी उनकी होती है। पिछले कुछ दिनों की राजनीतिक उलझनों, सवालों और अटकलों के बाद उनकी पार्टी ने फैसला लिया है कि वह राजग में ही बरकरार रहेंगे। एक तेजतर्रार राजनीतिज्ञ की तरह पूरी प्रक्रिया के दौरान वह चाभी अपने सांसद पुत्र और लोजपा संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान को सौंपकर वह दूर खड़े रहे। जो फैसला हुआ उसमें लोजपा विजयी बनकर निकली। ‘दैनिक जागरण’ के राष्ट्रीय ब्यूरो प्रमुख आशुतोष झा ने रामविलास पासवान से लंबी बात की…

बिहार में राजग घटक दलों के बीच सीटों के बंटवारे से आप संतुष्ट हैं?

जवाब- पूरी तरह। मैं जनता के बीच का आदमी हूं। अपने लोगों के बीच रहना चाहता हूं और दूसरी ओर मंत्री होने की कई बड़ी जिम्मेदारियां निभानी होती हैं। इसीलिए सरकार के कामकाज और हाजीपुर के बीच समन्वय नहीं बन पा रहा था। पार्टी का भी मानना था कि मुझे अब राज्यसभा में आना चाहिए। पार्टी की मांग थी सिक्स प्लस वन। राजग ने उसे मान लिया।

x

Check Also

जब प्रेस कॉन्फ्रें स के बिल पर लड पडे वरिष्ठ नेता

मध्‍यप्रदेश में सत्‍ता विरोधी लहर अच्‍छी-खासी है. लोग भाजपा से गुस्साए हैं और कांग्र्रेस को वोट देना चाहते हैं, लेकिन कांग्रेस इसके लिए तैयार ही नहीं है. आलम ये है कि यहां नेता ही आपस में भिड़े हुए हैं. इससे जुड़े कुछ मजेदार किस्से प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में और इसके बाहर सुनने को मिलते हैं. ऐसा ही किस्‍सा है वरिष्‍ठ कांग्रेसी नेता कमलनाथ और कांग्रेस के युवा लोकप्रिय चेहरे ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया का. प्रदेश कांग्रेसके संगठन की बागडोर संभालने के बाद कमलनाथ ने एक प्रेस कांफ्रेंस की, जिसका बिल साढ़े छह लाख रुपए आया और इसका भुगतान पार्टी फंड से किया ...

तो क्या भगवानों के बीच होगा अगला लोकसभा चुनाव

जिस तेजी से सारी पार्टियां मंदिरों – मस्जिदों की शरण में पहुंच रही हैं, उसे देखकर तो ऐसा लग रहा है कि अगला लोकसभा चुनाव भगवानों के बीच होगा. केन्द्र में और देश के सबसे ज्यादा राज्यों में जिस पार्टी की सत्ता है, वह भारतीय जनता पार्टी पिछले 25 साल से राम के भरोसे चल रही है. राम की मार्केटिंग कर उन्होंने मतदाताओं का इतना विश्वास प्राप्त किया कि पूरा देश भगवा हो गया. वहीं भारतीय जनता पार्टी की सफलता को देखते हुए देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस भी अब सॉफ्ट हिन्दुत्व की तरफ मुड़ रही है. कांग्रेस के ...

तो बिहार में मिल सकती है कांग्रेस को 10 सीटें!

बिहार में भले महागठबन्धन बन तो गया है लेकिन अब तक सीटों को ले कर कोई फैसला नहीं हुआ है. दूसरी तरफ रालोसपा के भे ऐस महागठबन्धन में शामिल होने को ले कर संशय की स्थिति बनी हुई है. ऐसे में सबसे बडा सवाल है कि कांग्रेस के खाते में लोकसभा की कितनी सीटें आएंगी. हालांकि लालू प्रसाद के साथ कांग्रेस का रिश्ता काफी पुराना है, पर महागठबंधन में वह दूसरे नम्बर की पार्टी ही है. अर्थात राजद जो चाहेगा, वही होगा. यह कांग्रेस के सभी नेता समझते हैं, वे राहुल गांधी हों या शक्ति सिंह गोहिल. इसीलिए बिहार कांग्रेस ...

कुशीनगर : जिला पंचायत से बनी 50 वर्ष पूर्व की सड़क की भूमि पर दबंगों ने जमाया कब्जा

आदित्य प्रकाश श्रीवास्तव/मनोज पाण्डेय, कुशीनगर केसरी कुशीनगर(११ अक्टूबर)। जिले के नेबुआ नौरंगिया विकासखंड अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत नारायणपुर में जिला पंचायत से बनी सड़क पर कुछ लोग दबंगई के बल पर अपना घर बना लिए हैं, तो वहीं कुछ लोग रास्ते में ही पोखरा खोद दिए हैं। बता दें कि यह 45 फीट चौड़ी सड़क नारायणपुर ग्राम पंचायत के दूधनाथ चौहान के घर से चरीघरवा टोला होते हुए कोहरगड्डी को जाने वाली मुख्य सड़क में मिलती है। इस अवैध कब्जे से शासन-प्रशासन आज भी बेखबर है। आज हालत यह है कि कोई व्यक्ति साइकिल या पैदल भी उस रास्ते ...