Don't Miss
Home 5 देश 5 छुट्टी पर भेजे गए CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा के घर के बाहर से हिरासत में 4 संदिग्ध

छुट्टी पर भेजे गए CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा के घर के बाहर से हिरासत में 4 संदिग्ध

सीबीआई चीफ आलोक वर्मा के आवास के बाहर से गुरूवार की सुबह उनके पर्सनल सिक्योरिटी ऑफिसर्स (पीएसओ) ने चार संदिग्ध लोगों को वहां पर घूमते हुए हिरासत में लिया है। हिरासत में लिए गए लोगों ने अपनी पहचान इंटेलिजेंस ब्यूरो के अधिकारी के तौर पर दी है, जिनका नाम है- प्रशांत कुमार, विनीत कुमार गुप्ता, अजय कुमार और धीरज कुमार सिंह।

उन सभी ने अपनी पहचान के तौर पर सीजीएचएस और आधार कार्ड दिए हैं। एक अधिकारी ने अपनी पहचान उजागर न करने की शर्त पर बताया- “संदिग्ध के पास से जो पहचान सबूत के तौर पर दी गई है उससे यह साफ जाहिर होता है कि वे सभी आईबी के ऑफिसर हैं। हम डॉक्यूमेंट्स की सत्यता की जांच कर रहे हैं।”

वे लोग सादे कपड़े में थे जिन्हें जनपथ रोड स्थित वर्मा के उच्चस्तरीय सुरक्षा वाले आवास के सामने और पीछ के गेट से पकड़ा गया। वे सभी दो निजी गाड़ियों में आए थे। ऑफिसर ने बताया- “सुबह से ही वे काफी समय तक इधर-उधर घूम रहे थे। आखिरकार संदिग्ध व्यवहार के चलते उन सभी को हिरासत में ले लिया गया।” सबसे पहले उन सभी की वर्मा के आवास परिसर में पर्सनल सिक्योरिटी ऑफिसर्स ने पूछताछ की और उसके बाद उन सभी को पुलिस कंट्रोल रूम भेज दिया गया। रिपोर्ट फाइल करने तक उन सभी की गिरफ्तारी की खबर नही हैं।

वर्मा को जो दो पीएसओ दिए गए हैं वे दिल्ली पुलिस के अधिकारी है। डीएसपी मधुर वर्मा जिनके अंदर नई दिल्ली जिला और जनपथ का इलाका आता है, उन्होंने कहा कि चार लोगों को हिरासत में लिए जाने के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा- “अगर ऐसा कुछ हुआ है तो इस केस को सिक्योरिटी डिपार्टमेंट देखेगा।”

सीबीआई के आंतरिक विवादों के बीच आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना को बुधवार को सभी कार्यों से छुट्टी पर भेज दिया गया। इससे पहले, मंगलवार को भ्रष्टाचार के मामले में अस्थाना के खिलाफ चल रही जांच को लेकर वर्मा ने उन्हें सभी केसों की जांच से हटा दिया था। आधी रात के आदेश में सरकार ने सीबीआई के ज्वाइंट डायरेक्टर एम. नागेश्वर राव को सीबीआई का अंतरिम प्रभार सौंपने का आदेश दिया।

x

Check Also

सीबीआई चीफ बने रहेंगे आलोक वर्मा, बड़े फैसले लेने पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

सीबीआई विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया सीबीआई विवाद मामले में आज सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया। फैसले से जहां केंद्र सरकार को झटका लगा है वहीं जांच एजेंसी के निदेशक वर्मा को भी पूरी तरह से राहत नहीं मिली है। सीबीआई निदेशक ने सरकार द्वारा उन्हें छुट्टी पर भेजे जाने को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। आज इस मामले में उन्हें 75 दिन बाद राहत मिली है। अदालत ने सरकार के 23 अक्तूबर को दिए आदेश को निरस्त कर दिया है लेकिन यह भी कहा है कि सीवीसी जांच पूरी होने तक वर्मा कोई बड़ा निर्णय ...

Christmas day 2018: जानिए क्या है क्रिसमस ट्री और सीक्रेट सांता क्लॉज की कहानी

क्रिसमस को पूरी दुनिया में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इसे बड़ा दिन के भी नाम से जाना जाता है। नई दिल्ली, जेएनएन। क्रिसमस डे ईसाई धर्म के लोगों का प्रमुख पर्व है। यह पर्व विश्व में फैले ईसा मसीह के करोड़ों अनुयायियों के लिए पवित्रता का संदेश लाता है। इन दिनों हर जगह क्रिसमस डे की रौनक है। क्रिसमस को पूरी दुनिया में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इसे ‘बड़ा दिन’ के भी नाम से जाना जाता है। क्रिसमस का पर्व प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को मनाया जाता है। कहा जाता है कि इस दिन प्रभु ...

अयोध्या मामले पर चार जनवरी को होगी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट की यह तीन सदस्यीय पीठ इसी मामले में 2010 में आए इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली 14 याचिकाओं पर सुनवाई करेगी। नई दिल्ली, प्रेट्र। सुप्रीम कोर्ट अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद के मालिकाना हक से जुड़े मामले में चार जनवरी को सुनवाई करेगा। सुनवाई प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और जस्टिस एसके कौल की पीठ करेगी। माना जा रहा है कि इसी दिन पीठ इस मामले में आगे की सुनवाई के लिए तीन सदस्यीय पीठ के गठन का फैसला करेगी।सुप्रीम कोर्ट की यह तीन सदस्यीय पीठ इसी मामले में 2010 में आए इलाहाबाद हाई कोर्ट ...

EXCLUSIVE: पासवान बोले- मैं गुडलर्क चार्म, 2019 में फिर बनेगी मोदी सरकार

चिराग के संसदीय क्षेत्र में भी लोग नोट बदलने के लिए लाइन लगा रहे थे तो उसने कुछ जानकारी मांगी थी। वह दौर खत्म हो चुका है। लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) अध्यक्ष और केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान को विपक्षी नेता मौसम वैज्ञानिक कहते हैं जो माहौल को पहचान कर निर्णय लेते हैं। खुद पासवान का दावा है कि वह गुडलक चार्म हैं, जिसके साथ होते हैं बाजी उनकी होती है। पिछले कुछ दिनों की राजनीतिक उलझनों, सवालों और अटकलों के बाद उनकी पार्टी ने फैसला लिया है कि वह राजग में ही बरकरार रहेंगे। एक तेजतर्रार राजनीतिज्ञ की तरह ...